वापसी

ये तस्वीर पिछले जाडों में एक साथी ने ली थीजब मैं दिल्ली में हुआ करता था अब इंदौर मेंहूँ ...................

जद्दो जहद के बाद आज घर पर इन्टरनेट लग गया। ऑफिस में ब्लागस्पाट पर बैन है और कैफे जन आसानी से हो नही पता। इस बीच ढेरों ऐसे प्रसंग निकल गए जिनपर लिखने का मन था लेकिन मन मसोस कर रह गया। आज एक बार फ़िर जाने क्यों वैसे ही लग रहा है जैसे पहली बार ब्लॉग पर लिख रहा हूँ । अब नियमित रहूँगा ये वादाहै................

3 comments:

ललित शर्मा ने कहा…

स्वागत है-लिखिए,पढेंगे

अखिलेश चंद्र ने कहा…

kisase aur kaisa waada? Waadon ki umr hi ki kitani hoti hai?! Waada Karana hi sirf aasan hai! Chalo itana toh hua ki ab chaubis ghante online rahoge.

गिरीन्द्र नाथ झा ने कहा…

फटाफट नई पोस्ट करो गुरु..इंतजार है